Search

सोमवार, 14 सितंबर 2020

UPI सेवा प्रदान करने वाली कंपनिया कहाँ से मुनाफा कमाती हैं ?

 "UPI सेवा प्रदान करने वाली कंपनिया कहाँ से मुनाफा करती हैं ?"

UPI सेवा प्रदाता कंपनी गूगल पे,अमेजन पे आदि को आय कहाँ से मिलती है जब यह पूरा पैसा प्राप्तकर्ता के खाते में भेज दिया करते हैं ? यह सवाल आपके मन में जरूर आया होगा इसलिए आज हम आपको बता देते हैं कि UPI सेवा प्रदान करने वाली कंपनियां किस प्रकार अपना मुनाफा कमाती है UPI सेवा प्रदान करने वाली सभी कंपनियां भारत सरकार की NPCI इसके तहत एक खाते से दूसरे खाते में राशि भेजती हैं ।



जब भी आप किसी भी यूपीआई ऐप से पेमेंट करते हैं तो वह एनपीसीआई यानी कि नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के अंदर से एक खाते से दूसरे खाते में राशि जाती हैं ना कि कोई ऐप अपने खाते से आपके खाते में पैसे ट्रांसफर करता है यह सारा लेन-देन एनपीसीआई के तहत होता है जब भी आप एक बैंक से दूसरे बैंक के खाते में पैसे ट्रांसफर करते हैं तो जिस प्रकार बैंक आप से चार्ज करता है एटीएम विड्रोल या फिर सर्विस चार्ज के नाम पर उसी प्रकार से यह यूपीआई एप भी आप जिस बैंक में ट्रांसफर करते हैं पैसा या फिर निकालते हैं उस पर इनको कुछ प्रतिशत कमीशन मिल जाता है हालांकि वह राशि कम रहती है लेकिन ज्यादा ग्राहक होने की वजह से उनकी अच्छी खासी कमाई हो जाती है ।

इसी प्रकार जब आप फोनपे, पेटीएम,अमेज़नपे,गूगलपे, पर या इस प्रकार के किसी भी पेमेंट एप्स से जब मोबाइल रिचार्ज या बिजली का बिल भुगतान करते हैं तब भी इन कंपनियों को टेलीकॉम कंपनी और इलेक्ट्रिसिटी कंपनी भी कुछ प्रतिशत कमीशन देती हैं जब यह ऐप नहीं थे तब आप दुकानदार के पास से अपना रिचार्ज करवाते थे तब उसको मोबाइल कंपनी 2.5% कमीशन देती थी उसी प्रकार अब वह पूरा सिस्टम यूपीआई एप के अंदर आ गया है और इसी तरह से यह कंपनियां कमीशन पर अपना मुनाफा निकाल देती हैं जिस वजह से आपको नए ग्राहकों को कैशबैक और नई-नई सेवाएं देती दिखाई देती है ।


यदि आपका इस विषय के बारे में कुछ सवाल है तो आप हमें नीचे कमेंट में पूछ सकते हैं .





कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें